कतर्नियाघाट व चकिया वन क्षेत्रों में इको पर्यटन के विकास से जनपद में आयेगी खुशहाली

कतर्नियाघाट व चकिया वन क्षेत्रों में इको पर्यटन के विकास से जनपद में आयेगी खुशहाली

बहराइच 09 सितम्बर। घने वनों, कल-कल, छल-छल करती अथाह जलराशि से पूरित नदियों, सुन्दर मनोहारी वन्य जीवों, पशु पक्षियों के कलरव से गुंजित भू-भाग पर इको पयर्टन की अपार संभावनाओं को देखते हुए जिलाधिकारी शम्भु कुमार ने मंगलवार को देर शाम कतर्नियाघाट वन्य जीव प्रभाग के वन संरक्षक/प्रभागीय वनाधिकारी ज्ञान प्रकाश सिंह व प्रभागीय वनाधिकारी बहराइच मनीष सिंह के साथ शिविर कार्यालय पर आयोजित बैठक में निर्देश दिया कि तहसील मिहींपुरवा (मोतीपुर) एवं चकिया के वन क्षेत्रों एवं समीपवर्तीं ग्राम पंचायतों के लिए पर्यटन विकास के दृष्टिगत प्रभावी कार्ययोजना तैयार करें।
जिलाधिकारी ने कहा कि कतर्नियाघाट जैसी जैव विविधता से परिपूर्ण भू-भाग होना जनपद के लिए गौरव की बात है। श्री कुमार ने कहा कि अगर कतर्नियाघाट जैसी जैव विविधिता की बात की जाय तो भारत में कुछ एक स्थान ही होंगे जो जैव विविधता में इस भू-भाग की बराबरी कर सकें। उन्होंने बताया कि इस प्रभाग की जैव विविधता का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि यहाॅ पर दुर्लभ गोल्डेन महाशेर, गैंगेटिक डालफिन, बंगाल फ्लोरिकन, पाॅच प्रजातियों के हिरण, गैण्डा तथा हाथी, बाघ, तेन्दुआ जैसे अनेकों जीव जन्तु तथा नाना प्रकार के पेड़ पौधे एक ही स्थान पर पाये जाते हैं।
जिलाधिकारी ने कहा कि ईको पर्यटन को बढ़ावा देने से जहाॅ एक ओर विविधता भरे वातावरण को बेहतर ढंग से बचाया जा सकता है वहीं समीपवर्ती लोगों के लिए रोज़गार के अवसर पैदा कर हम उन्हें संरक्षण के लिए प्रेरित कर सकेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि इस क्षेत्र में ईको पर्यटन का विकास होने से लोगों की आय में वृद्धि होने से लोग वन एवं वन्य जीवों की उपयोगिता को बेहतर ढंग से समझेंगे जिससे मानव वन्य जीव संघर्ष तथा अवैध शिकार एवं कटान जैसी घटनाओं में कमी आयेगी।
जिलाधिकारी श्री कुमार ने वनाधिकारियों को निर्देश दिया कि इको पर्यटन की कार्ययोजना बनाते समय स्थानीय आर्थिक व्यवस्था व प्राकृतिक संरक्षण तथा स्थानीय कल्चर का साक्षात्कार देश-विदेश व शहरी लोगों से कराये जाने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार द्वारा संचालित ‘‘एक जनपद एक गन्तव्य योजना’’ तथा ‘‘होम स्टे योजना’’ को शीर्ष प्राथमिकता प्रदान की जाय। होम स्टे योजना के तहत ठहरने वाले पर्यटक प्राकृतिक के साथ-साथ स्थानीय कल्चर व कस्टम से रू-ब-रू हो सकेंगे और उन्हें पर्यटन के समय घर जैसा एहसास भी होगा। श्री कुमार ने यह भी निर्देश दिया कि कार्ययोजना बनाते समय कतर्नियाघाट आने वाले पर्यटकों की पहली पसन्द बोटिंग व जंगल सफारी को भी अधिक विशेष महत्व दिया जाय। श्री कुमार ने कहा कि कार्ययोजना को तैयार करने में तहसील प्रशासन की ओर से वन विभाग को हर संभव सहयोग प्रदान किया जायेगा।
                :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*जिला अधिकारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई विकास कार्यो की मासिक  समीक्षा बैठक*
बहराइच 09 सितम्बर। शासन के सर्वोच्च प्राथमिकता वाले 37 सूत्रीय तथा नीति आयोग कार्यक्रमों की कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित मासिक समीक्षा बैठक में विभागवार समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी शम्भु कुमार ने निर्देश दिया कि सम्बन्धित अधिकारी भलि भांति प्रगति से सम्बन्धित विवरण स्वयं परीक्षण कर त्रुटिरहित उपलब्ध कराये। बैठक में अनुपस्थित अधि. अभि. राजकीय निर्माण निगम, पैक्सपेड तथा प्रधानाचार्य आईटीआई से स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश दिये गये है।
स्वास्थ्य विभाग के योजनाओं एवं कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया कि विभागीय अधिकारियों द्वारा किये गये निरीक्षणों में पायी गयी कमियों के निराकरण से सम्बन्धित आख्या भी उपलब्ध करायी जाए। आयुष्मान भारत योजना की धीमी प्रगति पर सीएमओ को नोटिस तथा डीएचआईओ व योजना के जिला समन्वयक का वेतन बाधित करने के साथ-साथ सीएमओ को योजना के प्रगति की डे-बाई-डे समीक्षा करने का निर्देश दिया।
दस्तक अभियान व परिवार नियोजन कार्यक्रम की प्रगति भी संतोषजनक न पाये जाने पर डीसीपीएम को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये। इसी प्रकार राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में भी प्रगति की स्थिति संतोषजनक न पाये जाने पर कार्यक्रम प्रभारी का वेतन बाधित करने के निर्देश दिये गये। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया कि सभी स्वास्थ्य योजनाओं एवं कार्यक्रमों की अपने स्तर से गहन समीक्षा कर अपेक्षित सुधार लाये।
इसी प्रकार शिक्षा, कृषि, कार्यक्रम, डीआरडीए, पंचायतीराज, मनरेगा, एनआरएलएम, लोक निर्माण, जल निगम, कौशल विकास, नगर पालिका सहित अन्य विभागों तथा कार्यदायी संस्थाओं के कार्यो की समीक्षा कर सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया।
इस अवसर पर मुंख्य विकास अधिकारी कविता मीना, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. सुरेश सिंह, जिला विकास अधिकारी राजेश मिश्रा, उपायुक्त स्वतः रोजगार सुरेन्द्र कुमार गुप्ता, उप निदेशक कृषि डा. आर.के. सिंह, जिला कृषि अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय, जिला विद्यालय निरीक्षक राजेन्द्र कुमार पाण्डेय, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी दिनेश कुमार यादव, डीपीआरओ उमाकान्त पाण्डेय, जिला कार्यक्रम अधिकारी जी. डी. यादव, जिला अर्थ एवं सख्या अधिकारी अर्चना सिंह सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी मौजूद रहे।
ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*गैंगेस्टर एक्ट के तहत 07 अपराधियों की ज़ब्त की गयी सम्पत्तियाॅ*
बहराइच 09 सितम्बर। जिला मजिस्ट्रेट शम्भु कुमार द्वारा गैंगेस्टर एक्ट की धारा 14 (1) के तहत 07 अभियुक्तों की सम्पत्तियों को कुर्क करने की कार्रवाई की गयी है। जनपद के थाना फखरपुर अन्तर्गत खालिदपुर के शहज़ादे पुत्र शौकत, हफीजुल्ला पुत्र बेचू व अनिलमुल्ला पुत्र खालिक तथा अकबरपुर बुज़ुर्ग के हकीमुद्दीन पुत्र इब्राहीम का 01-01 किता मकान, थाना जरवल रोड अन्तर्गत भवानीपुरवा के परवेज़ पुत्र बहाजुल हक की ग्राम घवरिया स्थित कृषि भूमि गाटा संख्या 77/0.081 हेक्टेयर व 230/0.162 हेक्टेयर तथा 01 पक्का मकान 07 गुणा 13 फिट, थाना कैसरगंज अन्तर्गत गंजजलालपुर के बबलू खान पुत्र वहीद खान की ग्राम पुरैनी स्थित जमीन गाटा संख्या 1167/0.101 हेक्टेयर व मोटर साइकिल संख्या यू.पी. 40 ए.एच. 7147 व मकान 20 गुणा 15 फिट तथा पहाड़पुरवा दा0 बिराहिमपुर बेलहौरा के राजू पुत्र गोबरे का 01 किता पक्का मकान 0.016 हेक्टेयर तथा मोटर साइकिल संख्या यू.पी. 40 ए.एन. 7834 को कुर्क किया गया है।
                     :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*नोडल अधिकारी ने किया सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों का निरीक्षण*
*तहसील कैसरगंज में की बाढ़ राहत व बचाव कार्यों की समीक्षा*

बहराइच 09 सितम्बर। कोविड-19 एवं बाढ़ राहत कार्य के अनुश्रवण हेतु शासन द्वारा नामित नोडल अधिकारी विशेष सचिव, पंचायती राज, उ.प्र. शासन राकेश कुमार ने नान कोविड सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मुस्तफााबाद, जरवल, नान कोविड सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कैसरगंज तथा कैसरगंज अन्तर्गत 50 शैय्या मैटर्निटी विंग कैसरगंज का निरीक्षण कर विभिन्न व्यवस्थाओं का जायज़ा लिया तथा मौके पर मौजूद अधिकारियों एवं कर्मचारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। कैसरगंज क्षेत्र के भ्रमण के दौरान नोडल अधिकारी तहसील कैसरगंज अन्तर्गत बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में संचालित बचाव एवं राहत कार्यों की भी समीक्षा की।
सी.एच.सी. मुस्तफाबाद जरवल के निरीक्षण के दौरान नोडल अधिकारी ने कोविड हेल्प डेस्क सहित कोविड उपचार सम्बन्धी की गयी व्यवस्थाओं का जायज़ा लिया। निरीक्षण के दौरान डाॅ. निखिल सिंह ने बताया कि केन्द्र अन्तर्गत अब तक 96 कोरोना वायरस से संक्रमित मामले पाये गये है, जिसमें से 02 मरीज सक्रिय हैं एवं 94 की रिपोर्ट निगेटिव पाये जाने पर उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है। उपरोक्त 02 मरीजों में से 01 मरीजों को एल-1 हास्पिटल तथा 01 मरीजों को होम आइसोलेट किया गया है। अब तक कुल 4516 व्यक्तियांे की सैम्पलिंग की गयी है। निरीक्षण के दौरान केन्द्र में साफ-सफाई संतोषजनक पाई गई तथा कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु स्थापित कोविड हेल्प डेस्क के माध्यम से समस्त आगन्तुकों का परीक्षण किया जा रहा है।
इसी प्रकार नान-कोविड 50 शैय्या मैटर्निटी विंग कैसरगंज के निरीक्षण के दौरान अधीक्षक डाॅ. एन.के. सिंह द्वारा बताया गया कि, केन्द्र अन्तर्गत कुल 74 व्यक्ति संक्रमित पाये गये थे जिसमें से 65 की रिपोर्ट निगेटिव पाये जाने पर उन्हें डिस्चार्ज किया जा चुका है। वर्तमान समय में 09 मरीज सक्रिय है, जिसमें में से 02 मरीजों को एल-1 हास्पिटल तथा 07 मरीजों होम आइसोलेशन में है। अब तक आर.टी.पी.सी.आर. द्वारा 1894 व एंटीजन द्वारा 2050 सैम्पल कलेक्ट किये गये हैं। वर्तमान में 02 कन्टेनमेन्ट ज़ोन है।
निरीक्षण के दौरान मैटरनिटी विंग, कैसरगंज में साफ-सफाई संतोषजनक पाई गई तथा केन्द्र में स्थापित कोविड हेल्प डेस्क के माध्यम से समस्त आगन्तुकों का परीक्षण किया जा रहा है। स्वास्थ्य केन्द्र में मेडिकल स्टाप तथा डाक्टर की पर्याप्त उपलब्धता है, जिनके द्वारा स्वास्थ्य सेवायें सुचारू रूप से उपलब्ध करायी जा रही है। नोडल अधिकारी ने निर्देश दिया कि अपने को सुरक्षित रखते हुए पी.पी.ई.किट पहनकर ही हास्पिटल में प्रवेश करें, प्रतिदिन परिसर की साफ-सफाई एवं सैनिटाइज करायें। निरीक्षण के समय नोडल अधिकारी के लाइज़न आफिसर पंकज शर्मा भी मौजूद रहे।
इसके उपरान्त नोडल अधिकारी ने नान कोविड सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कैसरगंज का निरीक्षण कर विभिन्न व्यवस्थाओं का जायज़ा लिया तथा मौके मौजूद चिकित्साधिकारियों से आवश्यक जानकारी प्राप्त कर दिशा निर्देश दिये। सी.एच.सी. कैसरगंज के निरीक्षण के पश्चात नोडल अधिकारी ने तहसील कैसरगंज पहुॅचकर उप जिलाधिकारी महेश कुमार कैथल के साथ बाढ़ राहत व बचाव कार्यों की समीक्षा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये। निरीक्षण के समय नोडल अधिकारी के लाइज़न आफिसर पंकज शर्मा भी मौजूद रहे।
                             :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*तहसील नानपारा में लागू हुआ ड्रेस कोड*

बहराइच 09 सितम्बर। जिलाधिकारी शम्भु कुमार की प्रेरणा से उप जिलाधिकारी नानपारा सूरज पटेल आई.ए.एस. ने ‘‘मेरा तहसील मेरा गौरव’’ के तहत तहसील नानपारा में ड्रेस कोड लागू किया है। अब यहां के सभी लेखपाल हल्की नीली कलर की शर्ट, काले रंग की पैंट और काले रंग के जूते में दिखेंगे। तहसील के सभी लेखपालों एवं कर्मचारियों के पहचान पत्र भी बनाये जायेंगे जिससे आमजन को काफी सुविधा होगी। लेखपालों के लिए ड्रेस कोड लागू करने वाली नानपारा प्रदेश की पहली तहसील है। मंगलवार को तहसील परिसर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उप जिलाधिकारी ने सभी लेखपालों को ड्रेस में ही तहसील आने और गांव जाने के लिए शपथ दिलाई।
                      :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*कोविड-19 के दृष्टिगत प्रशिक्षित किये गये सफाई कर्मी व सुपरवाइज़र्स*

बहराइच 09 सितम्बर। शहरी वाश कार्यक्रम के अन्तर्गत आागा खान फाउण्डेशन के सहयोग से नगर पालिका परिषद बहराइच के सभागार में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम में सफाई कर्मियों एवं सुपरवाईजर्स को कोविड-19 के सम्बन्ध में बचाव तथा सुरक्षा प्रोटोकाल की जानकारी प्रदान की गयी। इस अवसर पर सफाई कर्मियों एवं सुपरवाइज़र्स को मास्क, ग्लव्स, गमबूट, एप्रेन को वितरण किया गया तथा चयनित स्लम बस्ती मोहल्ला सलारगंज, बख्शीपुरा एवं चाॅदमारी के लिए स्प्रे मशीन एवं हाइपो क्लोराइड भी उपलब्ध कराया गया।
दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान 20-25 के समूहों में 160 सफाई कर्मियों एवं सुपरवाईजर्स को मुख्य ट्रेनर मज़हर राशिदी ने प्रशिक्षण प्रदान किया। इस अवसर पर अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका परिषद बहराइच पवन कुमार, आगा खान फाण्डेशन से राज्य कार्यक्रम अधिकारी सुधीर चिलरेगा, अश्वनी चैरसिया, अवनीश मिश्रा, सी.एफ. महेन्द्र श्रीवास्तव, अभिषेक पाण्डेय, अमित, अशोक, डी.पी.एम. गौतम मिश्रा व अवनीश दुबे तथा खाद्य एवं सफाई निरीक्षक सुरेश गोविन्द मिश्रा सहित अन्य सम्बन्धित लोग मौजूद रहे।
                          :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*आयुष्मान भारत योजना के तहत सीएचसी विशेश्वरगंज को मिला प्रथम स्थान*
*बहराइच के कैसरगंज सीएचसी ने हांसिल किया प्रदेश मे तीसरा स्थान*
*प्रदेश के टॉप 50 सीएचसी में देवीपाटन मण्डल के 23 सीएचसी शामिल ।*
बहराइच 09 सितम्बर। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी  स्वास्थ्य योजनाओं में शामिल है। इसके तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के  परिवारों को पांच  लाख रुपए तक की निःशुल्क स्वास्थ्य सुविधा  उपलब्ध करायी  जाती  है। यह योजना ऐसे परिवारों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है जो आर्थिक तंगी के कारण गंभीर बीमारियों का इलाज करा पाने में सक्षम नहीं हैं। योजना का लाभ सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में भी मिल सके इसके लिए ब्लाक स्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को भी योजना से जोड़ा गया है। पोर्टल से की गयी समीक्षा के अनुसार प्रदेश के टॉप 50 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में बहराइच के विशेश्वरगंज सीएचसी को पहला स्थान मिला है ।
कोरोना के चलते गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों को इलाज मुहैया कराना किसी चुनौती से कम नहीं है। ऐसे में आयुष्मान भारत योजना के तहत निःशुल्क इलाज मुहैया कराने में  प्रदेश के टॉप 50 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में जनपद की विशेश्वरगंज सीएचसी सूबे में पहले स्थान पर तथा कैसरगंज सीएचसी तीसरे स्थान पर है। आयुष्मान भारत के नोडल अधिकारी रवीन्द्र त्यागी ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की प्रगति का आकलन करने के लिए योजना के पोर्टल की समीक्षा की गयी। जिसमें प्रदेश के टॉप 50 की सूची में 13 सीएचसी जनपद बहराइच की, 6 सीएचसी जनपद श्रावस्ती की तथा 4 सीएचसी जनपद बलरामपुर की शामिल हैं। इस तरह टॉप 50 मे 23 सीएचसी देवीपाटन मंडल के आकांक्षात्मक जनपदों से हैं।
सीएचसी अधीक्षक डॉ उत्कर्ष ने बताया कि विशेश्वरगंज सीएचसी में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के मरीजों को उपचार के बाद घर पहुँचाने के लिए एम्बुलेंस की सुविधा मुहैया कराई जाती है तथा घर वापस जाने के बाद उनके स्वास्थ्य की जानकारी भी ली जाती है इस दौरान यदि उन्हें किसी प्रकार की समस्या है तो उचित सलाह दी जाती है । सभी गोल्डेन कार्ड धारकों को योजना का लाभ दिलाने के लिए आयुष्मान मित्र द्वारा फोन कर योजना की जानकारी दी जाती है जिससे उपचार कराने वाले मरीजों की संख्या मंे निरंतर बढ़ोत्तरी हुई है। इस सफलता मंे ब्लाक के बीपीएम, बीसीपीएम एवं आशाओं का भी विशेष योगदान रहा है ।
नोडल अधिकारी रवीन्द्र त्यागी ने बताया दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों मंे भी लोगों को उनके घर के नजदीक प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का लाभ मिल सके इसके लिए सभी अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को भी आयुष्मान भारत से जोड़ने का प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा। इसके अलावा सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर एक्स- रे और अल्ट्रा साउंड की सुविधा उपलब्ध कराने की योजना बनायी जा रही है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ सुरेश सिंह ने प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली विशेश्वरगंज सीएचसी के आरोग्य मित्र बबलू यादव, बीपीएम, बीसीपीएम शकील अहमद सिद्दीकी एवं सीएचसी अधीक्षक डॉ. उत्कर्ष सहित सभी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को बधाई दी।
आयुष्मान भारत योजना के जिला सूचना प्रबन्धक अमित कुमार सिंह ने बताया कि जिनके गोल्डेन कार्ड अभी नहीं बने हैं वह प्रधानमंत्री का पत्र या प्लास्टिक कार्ड ले जाकर अपने नजदीकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर अपना गोल्डेन कार्ड बनवा सकते हैं। जिनके पास कोई प्रमाण नहीं है वह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर कार्यरत आरोग्य मित्र से संपर्क करके अपना नाम सूंची मे देख सकते हैं। आरोग्य मित्र गोल्डेन कार्ड बनवाने मंे पूरी मदद करेंगे। इसके अलावा जिन लोगों के राशन कार्ड में परिवार के किसी सदस्य का नाम नहीं शामिल है उसे शामिल करवा लें जिससे परिवार के सभी लोगों को योजना का लाभ मिल सके।
                      :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*पुलिस मुठभेड़ की मजिस्ट्रीयल जाॅच के सम्बन्ध में 12 सितम्बर तक दर्ज कराये जा सकते हैं बयान*
बहराइच 09 सितम्बर। जनपद में 10 जुलाई 2020 की रात्रि में धर्मेन्द्र कुमार शाही, पुलिस उपाधीक्षक, एसटीएफ फील्ड इकाई लखनऊ के नेतृत्व में ग्राम गलकारा टोला अहिरनपुरवा, थाना हरदी, बहराइच में ग्राम के बाहर झोपड़ीनुमा घर में छिपे अभियुक्त पन्ने लाल यादव उर्फ डाक्टर पुत्र सोमई यादव, निवासी ग्राम मनईतापुर, थाना गुलरिहा, जनपद गोरखपुर की पुलिस मुठभेड़ में अचेत होने एवं जिला अस्पताल में डाक्टरों द्वारा मृत घोषित किये जाने सम्बन्धी प्रकरण की मजिस्ट्रीयल जाॅच के लिए जिला मजिस्ट्रेट शम्भु कुमार द्वारा उप जिला मजिस्ट्रेट महसी को जाॅच अधिकारी नामित किया गया है।
यह जानकारी देते हुए जाॅच अधिकारी/उप जिला मजिस्ट्रेट महसी ने बताया कि उक्त प्रकरण की बाबत कोई भी व्यक्ति अपना बयान देना चाहता है तो तहसील कार्यालय उप जिला मजिस्ट्रेट महसी में 12 सितम्बर 2020 तक किसी भी कार्यालय कार्यअवधि में प्रातः 10ः00 बजे से अपरान्ह 05ः00 बजे के बीच अपना बयान दे सकता है।
                     :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण का कार्यक्रम जारी*
*आलेख्य का प्रकाशन 17 नवम्बर को*
बहराइच 09 सितम्बर। अर्हता तिथि 01 जनवरी 2021 के आधार पर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम अन्तर्गत भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार नामावलियों के आलेख्य का प्रकाशन अब 16 नवम्बर के स्थान पर 17 नवम्बर 2020 को किया जायेगा।
विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के लिए आयोग द्वारा जारी संशोधित समयसारिणी की जानकारी देते हुए सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि दावे और आपत्तियाॅ प्राप्त करने की अवधि 17 नवम्बर से 15 दिसम्बर 2020 होगी। उपरोक्त अवधि के बीच 28 नवम्बर व 05 दिसम्बर (शनिवार) तथा 22 नवम्बर व 13 दिसम्बर (रविवार) को विशेष अभियान संचालित किया जायेगा। विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों का अन्तिम प्रकाशन 15 जनवरी 2021 को किया जाएगा।
                         :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*फसलों के अवशेषों को जलाने वालों के विरूद्ध हो कड़ी कार्रवाई: डीएम*
बहराइच 09 सितम्बर। जिलाधिकारी शम्भु कुमार ने कृषि, राजस्व, विकास, पुलिस तथा अन्य सम्बंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि किसी भी दशा में फसलों के अवशेष न जलाये जायें। उन्होंने कृषकों के मध्य फसल अवशेष जलाने से मिट्टी, जलवायु एवं मानव स्वास्थ्य को होने वाली हानि के विषय में व्यापक रूप से जागरूक कराये जाने का निर्देश दिया है। श्री कुमार ने यह भी निर्देश दिया है कि किसानों के मध्य इस बात का भी व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाय कि फसलों के अवशेष को जलाना दण्डनीय है। ऐसा करने पर किसानों को अर्थ दण्ड से दण्डित किया जा सकता है।
जिलाधिकारी ने समस्त ग्राम प्रधानों, लेखपालों व ग्राम पंचायत अधिकारियों के साथ-साथ कृषि विभाग के प्राविधिक सहायक, बी.टी.एम. व ए.टी.एम. को निर्देश दिया है कि अपने-अपने कार्य क्षेत्र में यह सुनिश्चित करें कि कहीं भी खरीफ फसल के अवशेष न जलने पाये, इसके लिए जो भी आवश्यक कदम उठानें हो, उसको उठाया जाये। फसल अवशेष जलाने की घटनाएं सामने आने पर सम्बंधित लेखपाल/नोडल अधिकारियों को जिम्मेदार मानते हुए उनके विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी।
जिलाधिकारी ने समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित किया है कि अपने-अपने क्षेत्रों में फसल अवशेष जलाये जाने की घटनायें रोकने के लिए प्रभावी कार्यवाही करना सुनिश्चित करें तथा किसी भी दशा में अपने क्षेत्र में फसल अवशेष जलाये जाने की घटनायें न होने दें। कोई किसान पराली जलाता है तो उसके विरूद्ध आई.पी.सी. तथा राष्ट्रीय हरित अधिकरण के प्रावधानों के तहत जुर्माना लगाया जाये। घटना की पुनरावृत्ति होने पर एफआईआर दर्ज करायी जाय। इसी सन्दर्भ में समस्त अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि कूड़ा जलने की घटना भी न होने पायें।
श्री कुमार ने यह भी निर्देश दिया कि जनपद में चलने वाली प्रत्येक कम्बाइन हार्वेस्टर के साथ कृषि विभाग का एक कर्मचारी नामित रहे जो कि अपनी देख-रेख में कटाई का कार्य करायेगा। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया है कि कोई भी कम्बाइन हार्वेस्टर, सुपर स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम अथवा सुपर स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम अथवा स्ट्रा रीपर अथवा स्ट्रा रेक एवं बेलर के बगैर चलते हुई पायी जाये तो उसको तत्काल सीज कर दिया जाये।
जिलाधिकारी ने बताया कि फसलों के अवशेष को जलाने वाले दोषी व्यक्तियों की पुष्टि होने पर दो एकड़ क्षेत्रफल तक रू. 2500, दो से पांच एकड़ तक रू. 5000 तथा पांच एकड़ से अधिक पर रू. 15000 अर्थदण्ड लगाया जाए तथा घटना की पुनरावृत्ति से सम्बन्धित मामलों में राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण अधिनियम की धारा-26 एवं एक्ट सं. 14/1981 की धारा-19 के अन्तर्गत अभियोजन की कार्यवाही कर नियमानुसार कारावास या अर्थदण्ड या दोनों से दण्डित कराया जायेगा। श्री कुमार ने किसानों से अपील की है कि वे अपनी फसलों के अपशिष्ट न जलाकर उसका वैज्ञानिक ढ़ग से उपयोग कर मिट्टी की उर्वरा शक्ति में वृद्धि करते हुए अपनी उत्पादकता बढ़ायें जिससे वातावरण को प्रदूषित होने से बचाया जा सके।
                         :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः
*ग्रीन जोन में परिवर्तित हुए 18 कन्टेनमेन्ट ज़ोन*
बहराइच 09 सितम्बर। तहसील सदर बहराइच के थाना दरगाह शरीफ के मोहल्ला ईदगाह, कोतवाली देहात के गुरूनानक चैराहा व ग्राम कमलिया, थाना रिसिया के ग्राम डिहवा व मालापुर, तहसील कैसरगंज के थाना हुज़ूरपुर के ग्राम अल्लापुरवा व भूपानी, थाना फखरपुर के ग्राम अख्तियारापुर व भिलौरा बासू, तहसील पयागपुर के थाना रानीपुर के ग्राम टेपरा कटघरा, थाना विशेश्वरगंज के ग्राम ठाकुरपुरवा, सुजानडीह, विशेश्वरगंज बस स्टैण्ड, व रनियापुर गोबरही, तहसील नानपारा के कोतवाली नानपारा के ग्राम सिसवारा व कबीरनगर, तहसील मिहींपुरवा (मोतीपुर) के थाना मोतीपुर के सुशील सिंह फार्म ककरहा व कतर्निया बस स्टैण्ड मिहींपुरवा में कोविड-19 के पीड़ित/संक्रमित व्यक्ति पाये जाने के फलस्वरूप घोषित किये गये हाट स्पाट/कन्टेनमेन्ट ज़ोन को मुख्य चिकित्साधिकारी बहराइच की संस्तुति के आधार पर शासन के प्राविधानानुसार 14 दिनों से इस क्षेत्र में कोई पाजिटिव कोविड-19 मरीज की पुष्टि न होने के कारण जिलाधिकारी ने हाट स्पाट/कन्टेनमेन्ट जोन को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया है।

          फखरपुर की आवाज
                         :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः