वाह रे योगी सरकार जब न्याय दिलाने वाले ही न्याय पाने के लिए खा रहे हैं दर-दर की ठोकर

वाह रे योगी सरकार जब न्याय दिलाने वाले ही न्याय पाने के लिए खा रहे हैं दर-दर की ठोकर



स्थगन आदेश के बावजूद दबंगों ने कर ली वकील की भूमि पर निर्माण
 अतुल श्रीवास्तव......

गोण्डा ..28..अगस्त..जी हां यह कहीं और का मामला नहीं बल्कि मण्डल के मुख्यालय के अधिवक्ता रघुनंदन प्रसाद पुत्र माधव प्रसाद अधिवक्ता सिविल कोर्ट गोंडा निवासी घारी घाट भोला डीह थाना खोडारे का है ।अधिवक्ता रघुनंदन व राम अवतार व शीला देवी दोनो एक ही गांव के निवासी हैं इन दोनों के मध्य सिविल जज जूनियर डिवीजन न्यायालय के यहां एक वाद चल रहा था जिसमें स्टे लगा दिया गया था बावजूद इसके पुलिसिया मिलीभगत नेताओं का संरक्षण इस तरह जनपद में हावी है कि उक्त आदेश की भूमि पर विपक्षी राम अवतार व शीला ने रातों-रात दर्जनों लेबर मिस्त्री लेकर 25 अगस्त से निरंतर कार्य शुरू कर दिया जिसकी सूचना मिलते ही अधिवक्ता रघुनंदन प्रसाद ने संबंधित थाना खोडारे को दी लेकिन कोई न्याय न मिलता देख पीडित वकील ने अपने बार एसोसिएशन के अध्यक्ष दीनानाथ त्रिपाठी के सहयोग से पुलिस उपमहानिरीक्षक से लगाई न्याय की गुहार ।


डीआईजी राकेश कुमार ने मामले को गंभीरता से लेते हुऐ न्याय दिलाने का दिया आश्वासन ।

सवाल ये उठता है कि आए दिन भू माफियाओं के हौसले आखिर क्यो इतने बुलंद हैं जो अब अधिवक्ता व न्यायालय को भी ठेंगा दिखा रहे हैं  योगी सरकार एक तरफ तो ये बिगुल फूंक रही है कि भू माफिया अपनी हरकतों पर लगाए अंकुश उधर पुलिस प्रशासन को सख्त निर्देश भी दिया कि ऐसे लोगों के विरुद्ध सख्ती से पेश आए फिर क्यों थाना खोडारे की पुलिस इतनी बेशर्म और योगी से निर्भीक है कि बार-बार सूचना के बावजूद अधिवक्ता को न्याय दिलाने में टाम मटोल कर रही है।