यूपी के मुसलमानों को सीएम योगी का तोहफा, ताजियेदारी से पाबंदी खत्म, मुहर्रम की नई गाइडलाइन जारी

यूपी के मुसलमानों को सीएम योगी का तोहफा, ताजियेदारी से पाबंदी खत्म, मुहर्रम की नई गाइडलाइन जारी


लखनऊ. पूरे यूपी के मुसलमानों के लिए खुशखबरी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी के मुस्लिम समुदाय को माह-ए-मोहर्रम पाक महीने में एक पाक तोहफा दिया। माह-ए-मोहर्रम में ताजिया निकालने पर लगी पाबंदी को खत्म कर दिया। साथ ही मजलिस करने की इजाजत प्रदान की पर शर्त यह रखी की इस मजलिस में सिर्फ पांच लोग ही शामिल होंगे। इन दोनों मांग के सीएम योगी से पूरा हो जाने पर इमाम-ए-जुमा मौलाना कल्बे जवाद ने इमामबाड़ा गुफरानमआब में धरना खत्म कर दिया। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि योगी सरकार ने उनकी मांगे मान ली हैं। इस प्रकार मुहर्रम को लेकर यूपी सरकार (UP Government) ने नई गाइडलाइन जारी की है।
मजलिस मेें सिर्फ पांच :- मौलाना कल्बे जवाद के प्रतिनिधि शमील शम्शी ने बताया कि योगी सरकार ने राजधानी लखनऊ समेत पूरे उत्तर प्रदेश में अजादारी करने की पाबंदी को हटा लिया है। घर में ताजिया रखने पर अब एफआईआर नहीं होगी। मजलिस मेें सिर्फ पांच लोग ही मौजूद रहेंगे।
कोई परेशानी होने पर कर सकते शिकायत :- शमील शम्शी ने बताया कि इस बात की पाबंदी है कि सड़क और चौक पर ताजिये न रखे जा जाएं। यौमे आशूर में ताजियों के दफनाने को लेकर फैसला बाद में होगा। कोई भी परेशानी होने पर जिले के पुलिस विभाग के मुखिया से शिकायत कर सकते हैं। निगरानी के लिए सचिव गृह को नियुक्त किया है। शमील ने बताया कि उनकी गृह सचिव से वार्ता हुई है।

सरकार जुल्मी :- मौलाना कल्बे जवाद

अजादारी पर पाबंदी के खिलाफ मौलाना कल्बे जवाद की नेतृत्व में शिया धर्म गुरुओं ने अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया था। मौलाना कल्बे जवाद ने सरकार पर जुल्म करने का आरोप लगाया था। पर अब सब ठीक हो गया है।