*भू माफियाओं ने फिर हड़पी एक गरीब परिवार की जमीन* ************

*भू माफियाओं ने फिर हड़पी एक गरीब परिवार की जमीन*
************
*************
*कानपुर बिधनू थाना*
*************************
वर्तमान सरकार चाहे जितने जतन कर ले पर भू माफियाओं पर शिकंजा नही कस पा रही हैं इसका सिर्फ एक कारण हैं प्रशासनिक अधिकारियों में फैला  भ्रष्टाचार भू माफियाओं से मिलीभगत कर गरीबों की जमीनों में कब्जा करना अब आम बात हो गई हैं। ऎसा हीं एक मामला मौजा बिनगवां तहसील व परगना जिला कानपुर के रहने वाले महावीर .भूरा व बंसी के
परिवार क़ा कहना हैं की अराजी संख्या 273/0.8190,277/मि /0.3690, 278/0.6450हेक्टेयर मौजा बिनगवां तहसील व परगना जिला कानपुर पर पिछले 60साल  से उनके पूर्वज कल्लू पुत्र फगुनी  क़ा कब्जा व दखल रहा हैं उक्त जमीन पर उसके पूर्वजों द्वारा बाग लगाये थे. धीरे धीरे बाग समाप्त हो गये और खुली जमीन पर उनके पूर्वज कल्लू के देहांत के बाद से उक्त परिवार क़ा कब्जा रहा हैं। उक्त जमीन पर एक जगह उक्त परिवार का एक परिवारिक मंदिर रहा हैं। जमीन खाली व उपजाऊ न होने व परिवार की माली हालत कमजोर होने के कारण परिवार जमीन पर कोई कार्य नही कर सका।परिवार क़ा आरोप हैं की 6/12/2013को संस्क्रत ग्रह निर्माण समिति के सचिव भगवान दास दीक्षित पुत्र स्व.राम चरण दीक्षित निवासी 22ए राम पुरम पी ए सी मोड श्याम नगर एवं सुरेंद्र यादव पुत्र अज्ञात अपने 8साथियों के साथ मय फावड़ा आये और उनकी जमीन पर परिवारिक मंदिर की दीवाल के बगल में नींव खुदवाने लगे जब इसका पता महावीर के  परिवार को लगा तो परिवार के सभी सदस्यों ने इसका विरोध किया उस समय तो सभी लोग चले गये पर कुछ दिन बाद ये लोग फिर वापस आये और जमीन पर पुनः कब्जा करने लगे जब महावीर के परिवार ने पुनः विरोध किया तो ये सभी उग्र हो गये और मारपीट पर आमदा हो गये महावीर क़ा परिवार असहाय था इसलिये महावीर के परिवार ने सन 2014को कानून क़ा सहारा लेते हुए उक्त जमीन को हथियाने वालों पर मुक़दमा दायर कर दिया जिसपर मामला न्यायालय पर विचारधीन हैं महावीर के परिवार को न्यायालय ने उक्त जमीन पर स्टे ऑर्डर दे दिया पर सुरेंद्र यादव पर स्टे क़ा कोई फ़र्क नही पड़ा और जमीन पर लगातार निर्माण कराया जा रहा हैं महावीर और उसके परिवार के सभी लोग न्याय के लियें दर दर की ठोकरें खा रहे हैं यहां तक़ पीड़ित परिवार ने वर्तमान मुख्य मंत्री योगी के जनता दरबार में अर्जी लगाई पर वहां से भी कोई कार्यवाही नही हुई चूंकि महावीर दलित हैं सो उन्होंने परिवार समेत लखनऊ स्थित अनुसूचित जनजाती के दफ्तर में भी फरियाद लगाई पर अभी तक़ वहां से भी कोई मजबूत कार्यवाही नही हुई जिससे भू माफियाओं के हौसले और बुलंद हो गये भूमाफियाओं क़ा इतना खौफ हैं के बिधनू थाने से लेकर क्षेत्र के लेखपाल तक़ पीड़ित की एक भी नही सुनते ऎसी स्थिति में ये कहना ग़लत न होगा की भू माफियाओं के हाथों सब बिके हुए हैं तभी तो गरीब परिवार के लियें कोई कुछ करता नही अब ऎसी स्थिति में दलित परिवार पर हो रहे अत्याचार क़ा कौन जिम्मेदार हैं ?कौन महावीर और उसके परिवार को न्याय दिलायेगा ?योगी जी द्वारा चलाये जा रहे भूमाफियाओं के खिलाफ अभियान की सच्चाई क़ा पता इसी से चलता हैं की एक फरियादी जिसने योगी जी की चौखट पर दो बार नाक रगड़ी फिर भी योगी जी के कर्मचारियों ने कोई कार्यवाही नही की अब ऎसे में आने वाले2019 के चुनाव में ये परिवार तो कतई योगी जी को नही चुनना चाहेगा और ऎसे कई दलित पीड़ित हैं जो अपने दिल में गुबार लियें बैठे हैं ।

Post a Comment

0 Comments